यदि मंगल स्वग्रही हो तो भी मंगल दोष खत्म होता है+919928377061 - विश्व प्रसिद्ध नंबर 1 ज्योतिषी सुभाष बाबाजी के प्रवचन

Breaking

Home Top Ad

Whatsapp and Call +91 9928377061 कॉल करें। गारंटी से बोलता हूँ एक कॉल आपकी जिंदगी बदल देगा। घर बैठे बैठे ही आपकी समस्या को दूर कर दूंगा। यह मैं नहीं जमाना बोलता है।

Friday, 11 May 2018

यदि मंगल स्वग्रही हो तो भी मंगल दोष खत्म होता है+919928377061

दो विपरीत स्वभाव के ग्रहों का आपस में साथ होना भले ही मगंल कितना भी ठीक हो वो अपना स्वभाव यानि मंगलतत्व में परिवर्तन होने से नही रोक सकता, वैसे कहते है कि मंगल के साथ मे सूर्य,राहू,शनि बैठ जाये तो मंगल दोष भंग हो जाता है परन्तु अगर सूर्य+ राहू या सूर्य+शनि या शनि+राहू जब मंगल के साथ हो तो मंगल दोष से बरूना नही होगा उस जातक को शुभाशुभ दोनों तरह के फल एक ही समय में मिलेंगे यानि खुशी व गमी, रही बात मंगल दोष की तो मंगल के स्वभाव में और गर्मी बढाने वाले ग्रह ही मंगल दोष के लिये खास तौर पर जिम्मेदार होगे , मेरा अनुभव हा कि सूर्य जो कि दिन के समय में बनने वाले भोजन व राहू शाम के समय में बनने वाले भोजन तथा शनि रात के समय में शनि की अशुभ घटनाओं से बचने के लिये घर मे जलाये दीपक आदि से मंगल दोष या मंगल बद की घटनाओं से बचने के लिये है ये लेख पूज्यनीय गुरुदेवजी को मन व मस्तिष्क में रख के लिखा गया है जो कि निजी अनुभव के आधार पर ग्रहों की समीक्षा करने री चेष्टा मात्र ||लाल किताब के अनुसार मंगल तीसरे-चौथे और आठवें भाव में बैठा हो तो मांगलिक दोष होता है या मंगल बद होता है
 तीसरे, चौथे या आठवें भाव में मंगल के साथ उसके मित्र ग्रह बृहस्पति, सूरज या चंद्र बैठ जाए तो मंगल दोष भंग हो जाता है। +919928377061

No comments:

Post a Comment